नेपाल सीमा पर चल रहा विदेशी मुद्रा बदलने का अवैध धंधा

foreign_currency
कानून की उड़ रही धज्जियां

बड़े-बड़े सौदागर इस धंधे में लगे हुए हैं। इन्हें कानून का कोई भय नहीं। लंबा नेटवर्क है। कभी छापेमारी हुई तो प्यादे ही पकड़े जाते हैं। आराम से छूट भी जाते हैं। सौदागरों के कृत्य की जानकारी पुलिस-प्रशासन को है, लेकिन वे जानबूझकर अनजान हैं। पूछने पर कड़ी कार्रवाई करने की बात अवश्य कहते हैं। भारत- नेपाल सीमा से सटे बिहार के पूर्वी चंपारण जिले के रक्सौल कस्बे में विदेशी मुद्रा को बदलने का अवैध धंधा हर दूसरा शख्स करता है। नोटों की ये दुकानें यहां ऐसे सजती हैं मानो पान की दुकान हों।

नियम-कानून की उड़ा रहे धज्जियां
इस छोटे से कस्बे में ऐसे सैंकड़ों ठिकाने हैं, जहां गैर कानूनी तरीके से विदेशी नोट बदले जाते हैं। देश का कानून कहता है कि विदेशी मुद्रा विनियमन अधिनियम के तहत ही विदेशी नोट बदले जाएंगे। केवल अधिकृत व्यक्तियों को ही विदेशी मुद्रा या विदेशी प्रतिभूति में लेनदेन की अनुमति होती है। अधिकृत डीलर, मनी चेंजर, विदेशी बैंकिंग यूनिट या कोई अन्य व्यक्ति जिसे रिजर्व बैंक ने प्राधिकृत किया है, वही यह काम कर सकता है, लेकिन यहां कोई भी अधिकृत नहीं है। नियम-कायदों को धता बताकर महज सेटिंग के बूते नोट बदलने का धंधा खूब चलता है।

नोट बदलिए और चलते बनिए 
नोट बदलने वाले सौदागर इशारे में बात करते हैं। पलक झपकते ही सारा काम हो जाता है। इस कारोबार के लिए बड़े-बड़े सौदागर कैश रखते हैं। छोटे दुकानदारों के बीच करेंसी सुबह बंटती है और घंटे-घंटे हिसाब होता है। बड़े सौदागर और इनका बॉस पर्दे के पीछे ही रहते हैं। कभी पुलिस छापा मारती है तो दुकानें बंद हो जातीं, इस दौरान धंधा चलते-फिरते संचालित होने लगता है। पुलिस ने 2016 में अवैध रूप से संचालित ऐसे केंद्रों के संचालकों को गिरफ्तार किया था, लेकिन ये 24 घंटे में ही छूट गए थे।

ऐसे समझिए कारोबार का गणित 
सड़क किनारे बेंच-डेस्क पर यदि एक छोटा कारोबारी 50 हजार रुपये लेकर छह घंटे की शिफ्ट में बैठता है तो उक्त राशि से नेपाली करेंसी 85 हजार तक बदल लेता है। करीब दो से ढाई हजार रुपये कमाई होती है। मसलन, इस समय 100 नेपाली रुपये का विनियमन मूल्य यदि 62.50 भारतीय रुपये है, तो बदलने वालों को 60 रुपये ही बताया जाता है। इस पर भी कमीशन के तौर पर प्रति सौ रुपये पर तीन-चार भारतीय रुपये लिए जाते हैं। इस तरह साढ़े छह भारतीय रुपये की कमाई प्रति 100 नेपाली रुपये पर हो जाती है। इसका एक हिस्सा सेटिंग के मैनेजमेंट पर खर्च होता है।

रटा रटाया जवाब 
दैनिक जागरण ने जब सवाल उठाया तो पूर्वी चंपारण के जिलाधिकारी रमण कुमार ने कहा, मामला गंभीर है। यह नियम के खिलाफ है। जांच कराई जाएगी…। वहीं, पुलिस अधीक्षक क्षत्रनील सिंह ने कहा, नोट बदलने के लिए अनुज्ञप्ति लेनी पड़ती है। यदि इसके बिना कारोबार हो रहा है तो यह कानूनन अपराध है। दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी…।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *