Positive Vibes and Good Thoughts

? सबका शुभ हो ! ?

जीवन मे क्रोध को क्रोध से नहीं जीता जा सकता, बोध से जीता जा सकता है। अग्नि अग्नि से नहीं बुझती, जल से बुझती है। समझदार व्यक्ति बड़ी से बड़ी बिगड़ती परिस्थितियों को दो शब्द प्रेम के बोलकर संभाल लेते हैं।

आओ हम भी हर परिस्थिति में संयम और बड़ा दिल रखना सीखें! क्योंकि जीवन बहुत छोटा है, इसे व्यर्थ के झगड़ों व मनमुटावों में गवांयें!

? शुभ प्रभात ?

 


इस अस्तित्व में कोई बिलकुल बुरा है, ऐसा नहीं है। और कोई बिलकुल भला है, ऐसा भी नहीं है। परन्तु हमारे चुनाव पर निर्भर है कि आप क्या चुनते हैं। हमारे अभ्यास पर निर्भर है कि हम क्या चुनते हैं। यदि हमने निर्णय कर रखा है कि बुरा ही चुनेंगे, तो हमे बुरा मिलता चला जाएगा। जीवन में भरपूर बुरा है। यदि हमने निर्णय कर लिया है कि अंधेरा ही चुनेंगे, तो दिनभर विश्राम करें हम आंख बंद करके, रात को निकल जाये खोजने; मिल जाएगा। मिलेगा वही-वही। बुरे को खोजना है, बुरा मिल जाएगा। दुख को खोजना है, दुख मिल जाएगा। पीड़ा खोजनी है, पीड़ा मिल जाएगी। परमात्मा खोजना है, तो वह भी विधमान है, वहीं, जहां राक्षस खड़ा है। सम्भवतया इतना भी दूर नहीं है। सम्भवतया राक्षस भी परमात्मा के चेहरे को गलत रूप से देखने के कारण है। सुप्रभात- आज का दिन शुभ व मंङ्गलमय हो।


भला होय सब जगत का
सुखी होंय सब लोग
दूर होंय दारिद्र दुःख
दूर होंय सब रोग

दुःखियारे दुःख मुक्त हों
भय त्यागें भयभीत
बैर छोड़ कर लोग सब
करें परस्पर प्रित

सुख व्यापे संसार में
दुःखिया रहे न कोय
सबके मन जागे धरम
सबका हित सुख होय

सबका मंगल होय
सबका मंगल होय
सबका मंगल होय

? ? ? ? ? ? ? ?? ? ? ? ? ? ? ?? ? ? ? ? ? ? ?? ? ? ? ? ? ? ?? ? ? ? ? ? ? ?? ? ? ? ? ? ? ?? ? ? ? ? ? ? ?? ? ? ? ? ? ? ?? ? ? ? ? ? ? ?? ? ? ? ? ? ? ?? ? ? ? ? ? ? ?? ? ? ? ? ? ? ?? ? ? ? ? ? ? ?? ? ? ? ? ? ? ?? ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *