दिल्ली पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक ने की प्रेस वार्ता

दिल्ली पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक ने दिल्ली पुलिस के वार्षिक प्रेसवार्ता को संबोधित किये जसमे उंन्होने दिल्ली पुलिस की साल 2017 की कामयाबियां गिनवाई,उन्होने ऐसा दावा किया कि साल 2017 में दिल्ली पुलिस साल 2016 के मुकाबले अपराधों पर लगाम लगाने में कामयाब हुई,दिल्ली में साल 2017 में हुए घिनोने अपराधों का पूरा लेखा हुआ है देखिए इस रिपोर्ट में….
दिल्ली के NDMC बिल्डिंग में  दिल्ली पुलिस ने आज अपना साल 2017 का लेखा जोखा पेश किया, जिसमे दिल्ली पुलिस ने दावा किया कि साल 2016 के मुकाबले साल 2017 में दिल्ली में अपराध की संख्या में कमी आयी ,है,दिल्ली पुलिस ने ऐसा दावा किया की चोरी,स्नैचिंग,बलात्कार,कत्ल जैसे घिनोने अपराधों में लगाम लगाने में दिल्ली पुलिस इस साल कामयाब हुई है
2016 और 2017 के रिकॉर्ड  
आपको बता दें की इस साल दिल्ली में 2016 के मुकाबले 2017 में दर्ज होने वाले मामलों की संख्या बढ़ी है
2017 में 2 लाख 23 हज़ार 75 मामले दर्ज हुए
2016 में 1 लाख 99 हज़ार 110 मामले दर्ज हुए
लेकिन हत्या,रेप,अपरहण,स्नैचिंग जैसे घिनोने अपराधों में कमी आयी है
दिल्ली पुलिस के मुताबिक
2016 में कत्ल के मामले 501 दर्ज हुए थे जबकि
साल 2017 में ये आंकड़ा 462 रहा
साल 2016 में हत्या की कोशिश के 614 मामले थे जबकि 2017 में एक काम यानिकि 613 रहा
साल 2016 में रॉबरी के 4585 मामले दर्ज हुए  जबकि साल 2017 में ये आंकड़ा घटकर 2833 रहा
साल 2016 में स्नैचिंग की वारदातें 9202 थी जबकि दिल्ली पुलिस की माने तो 2017 में ये घटकर 8051 हो गयी
साल 2016 में चोरी की वारदातें 13343 थी लेकिन 2017 में ये आंकड़ा 9546 रहा
साल 2016 में अपरहण के मामले 22 थे लेकिन 2017 में ये आंकड़ा घटकर केवल 14 रहा
वीओ-चलिये आपको बताते है की दिल्ली पुलिस इस साल कितने प्रतिशत केस सॉल्व कर पाई
दिल्ली पुलिस के मुताबिक
साल 2017 में रॉबरी के 83.16% मामले सॉल्व किये गए जबकि 2016 में 61.96% किये गए थे
साल 2017 में स्नेचिंग के 55.77 % मामले सॉल्व किये गए जबकि 2016 में 34.61% किये गए थे
साल 2017 में हत्या के 88.53 मामले सॉल्व किये गए जबकि 2016 में 79.04% किये गए थे
साल 2017 में हत्या की कोशिश के 95.76% मामले सॉल्व किये गए जबकि 2016 में 87.46% किये गए थे
 दिल्ली पुलिस का दावा है की साल 2017 में कुल घिनोने अपराधों का 87.98 % मामले सॉल्व किये गए जबकि 2016 में 71.81 % किये गए थे
ऐसे तो दिल्ली को रेप कैपिटल का दर्जा मिला हुआ है लेकिन दिल्ली पुलिस के मुताबिक साल 2017 में दिल्ली पुलिस मांहिलाओ के साथ होने वाले अपराधों में लगाम लगाने में कामयाब हुई है
दिल्ली पुलिस के मुताबिक
साल 2016 में बलात्कार के मामले 2064 थे जबकि 2017 में ये आंकड़ा 2049 रहा
साल 2016 मोलेस्टेशन के मामले 4035 थे जबकि साल 2017 में ये आंकड़ा 3273  रहा
साल 2016 में महिलाओं के साथ छेड़छाड़ के मामले 894 थे जबकि 2017 में केवल 621 दर्ज किए गए
इस वार्षिक प्रेस वार्ता में दिल्ली पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक अपनी पुलिस व्यवस्था की पीठ थपथपाते बिल्कुल भी नही थके,ज़ाहिर है दिल्ली पुलिस दिल्ली की जितनी सुरक्षा के दावे करती रहे लेकिन जब तक खुद दिल्ली के लोग अपने आप को सुरक्षित नही समझेंगे तब तक दिल्ली बिल्कुल भी सुरक्षित नही हो सकती..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *